Motu Patlu story in hindi : मोटू पतलू की कहानी हिंदी में

Motu Patlu story in hindi : आज का पोस्ट बड़ा ही मजेदार होने वाला है। जिसमें हम सभी एक कहानी के बारे में जानेंगे जिस कहानी का नाम Motu Patlu हैं। ये तो नाम शायद सभी जानते होंगे।

मोटू पतलू एक बहुत ही फेमश नाम है। जो हर कोई जानता है। यह पेशे से एक comedy के रूप में काम करते हैं। और यह एक एनीमेशन के द्वारा बनाए गए हैं। जो यूजर को बड़ा ही पसंद आते हैं। तो चलिए इस कहानी को शुरू करते हैं।

Table of Contents

Motu Patlu : मोटू पतलू की कहानी

इस कहानी की शुरुआत एक मुर्गा (कालू) से होती हैं। जो बहुत ही चालाक होता हैं। जब मोटू पतलू चाय पीने

के लिए एक ढाबे पर जाते हैं। तो सबसे पहले उनकी नजर एक मुर्गा पर पड़ती हैं। जो शायद वह

कभी नहीं देखा था। उनसे यह देखकर रहा नहीं गया। तब जाकर चाय वाले भईया से पुछते हैं। यह मुर्गा

कहा से लाए तब चाय वाले बोलता है, यह मुर्गा मेरे लिए बहुत ही खास है। जो मेरे लिए काम

करता हैं। तो मोंटू पतलू सुनकर बहुत ही खुश हो जाते हैं। चाय पीने के लिए चायवाले के पास पहले

से ही जॉन आया रहता हैं। जब चाय पी लेता है। तब बोलता है, कि चाय का पैसा कल ले

लेना। पर चायवाले भईया को यह मालूम था, कि उसके पास पैसा है। तब मुर्गा (जिसका नाम कालू होता हैं)

को बोलता है, जाओ पैसा लेकर आओ। तब मुर्गा जाकर जॉन को मारने लगता है। और उससे पैसे छिनकर ले

आता है। जिसमें जरूरत से ज्यादा पैसे रहते हैं। जॉन कहता है, बाकी के तो पैसे मेरे लौटा दो तो

चायवाले कहता है,। अच्छा ठीक है, लौटा दूंगा। मुर्गा के बारे में जॉन सोचने लगता है। आखिर इस मुर्गे को

क्या खिलाते हैं, जिससे इतना तेज है। उनसे रहा नहीं गया यह सवाल पुछा दिये फिर चायवाले बोलता है।

इसे तो सिर्फ गेहूं और बाजरे का दाना पसंद है। पर मैं इतने महंगाई के कारण सिर्फ इसे सादा दाना

ही खिलाता हूं। यह जवाब सुनकर जॉन मन ही मन बहुत खुश हो जाता हैं। वह मन ही मन सोचने

लगा अगर मैं इस मुर्गे को अपने बस में कर लू तो बहुत ही मजा आ जाएगा। सोचने के तुरंत

बाद जाता हैं। गेहूं और बाजरे का दाना मिलाकर एक बोरी में रख लेता है। फिर समय का इंतजार करता

जब शाम होती है, तो

Motu Patlu story in hindi : मोटू पतलू की कहानी हिंदी में

हैं। जब शाम होती हैं, तो दाना को लेकर उस ढाबे के पास जाता हैं। जहा पर मुर्गा होता हैं।

जाने के बाद देखता है, तो वहां पर मुर्गा के अलावा कोई नहीं होता है। मुर्गा को अपने साथ ले

जाने के लिए बोरी में से दाना गिराने लगता है। जिससे मुर्गा देखकर तुरंत दाना खाने लगता है। दाना को

धीरे-धीरे करके अपने घर तक गिराते गया। जिससे मुर्गा दाना को खाते-खाते उसके घर के पास चला गया।

जब पेट भर के दाना खा लेता है। तब जॉन उसे कुछ काम करने के लिए बोलता है। जाओ अगर

सबसे पहले कोई दिखे तो उससे पैसे छिनकर ले आओ। पैसा छिनने के लिए निकलता है, तो उसकी मुलाकात सबसे

पहले Motu Patlu से होती है। जिससे पैसा छिनकर जॉन के पास ले आता हैं। और उसे दे देता हैं।

फिर क्या मोटू पतलू दौड़कर उस चायवाले के पास जाते हैं। और बोलते हैं, हमने तो पैसा चाय का दे

दिये थे। फिर भी हमसे क्यों पैसा छिनवा रहे हैं। तब चायवाले भईया बोलते हैं। मेरा मुर्गा तो किसी ने

चुरा लिया है। मै कैसे यह काम कर सकता हूं। यह किसी दुसरे का काम है। इसे पता लगाने के

लिए मोटू पतलू आपस में विचार करते हैं। अगर यह बात चिन्गम सर को बताया जाए तो कैसा रहेगा। यह

बात दोनों को पसंद आया। और चिंगम सर के पास जाकर बताते हैं। जिससे सुनकर बोलते हैं, अगर ऐसा बात

है, तो क्यों ना उसे रंगे हाथों पकड़ा जाए।

रंगे हाथो पकड़ने के लिए

Motu Patlu story in hindi : मोटू पतलू की कहानी हिंदी में

रंगे हाथों पकड़े के लिए मोटू को कुछ पैसे देते हैं। और उसे हवा में उछालने के लिए बोलते हैं।

और जैसे ही सामने आएगा उसे पकड़ लिया जाएगा। जैसे ही पैसे उपर की तरफ उड़ाता है, तो जॉन वहीं

पर छुपकर देखता है। और अपने मुर्गे से बोलता है, वहां पर देखो वह मोंटे आदमी कितना रूपया उछाल रहा

है। जाओ पैसे छिनकर ले आओ। जैसे ही मुर्गा पैसे लेने के लिए जाता हैं। तो चिंगम देख लेता है।

ये तो सच में चोरी कर रहा है। चलो चलकर इसे पकड़ा जाए। पर वह फिर से निकल जाता हैं।

किसी से पकड़ा नहीं पाता है। और इस प्लान को फेल होने के बाद मोटू सलाह देता हैं, हमें मुर्गे

को पकड़ने के लिए किसी अच्छे प्लान के बारे में सोचना होगा। जिससे पतलू के पास एक विचार (Idea) आता

हैं। पतलू मोटू से कहता है, एक टोकरी में गेहूं और बाजरे का दाना ले लेना और उसमें रस्सी बांध

देना। अब उस दाने को जमीन पर गीराकर टोकरी से ढक देना थोड़ा टोकरी ऊपर करके जैसे ही मुर्गा दाना

खाने के लिए आयेगा। तब रस्सी को खींच देना जिससे मुर्गा फंस जाएगा।

यह प्लान सबको पसंद आया। जब वह ऐसा करते हैं। तब वहां पर मुर्गा आता हैं। और दाना खाने के लिए टोकरी के अंदर पहुंच जाता हैं। जिससे देखकर पतलू बोलता है।

रस्सी खींचो रस्सी को खींचने के बाद मुर्गा उस टोकरी के अंदर फंस जाता हैं। जिससे देखकर सभी खुश होते हैं। पर फिर से उस टोकरी को पलट कर वहां से भाग निकलता है।

इस प्लान को भी फेल होने के बाद वो विचार करते हैं। इस मुर्गे को पकड़ने के लिए यह पता लगाना होगा कि यह मुर्गा किसका हैं। पता लगाने के लिए मुर्गा का पिछा करते हैं।

जब पीछा करते-करते जाते हैं

Motu Patlu story in hindi : मोटू पतलू की कहानी हिंदी में

पिछा करते-करते जाने के बाद देखते हैं, तो वह मुर्गा जॉन के पास होता है। जिससे मोटू बोलता है, अभी तक जितने भी पैसे लुटे हो वो सारे मेरे हवाले कर दो ।

और अपने आप को सरेंडर करके चिंगम सर के पास चले जाओ। और पतलू बोलता है, तुम इस मुर्गे से चोरी करवाते हो। यह सब बकने के बाद जॉन गुस्सा हो जाता हैं।

और मुर्गे (कालू) से बोलता है, देखो यह दोनों तुमसे लड़ने आये हैं। पर Motu Patlu बोलते हैं, नहीं कालू देखो मेरे पास तो पैसे भी नहीं है। पर जॉन उस कालू पर दबाव देता हैं।

मारने के लिए बोलता है। जिससे कालू काम शुरू कर देता हैं। मोटू का जब पिटाई होती हैं। तब मोटू पतलू से कहता है, कुछ तो करो जिससे हम बच सकें।

तब पतलू कुछ सोचता है। उसके पास एक अच्छा सा विचार आता हैं। जिसे जॉन के सिर पर दाना की बोरी को लेकर उसके शरीर को पुरी तरीके से ढक देता हैं।

पतलू कालू से बोलता है, जरा पीछे तो मुड़कर देखो जब वह पीछे मुड़ता हैं, तो वह दाना खाने के लिए आ जाता हैं। दाने के नीचे जॉन रहता हैं। जब उसके अंदर से निकलता है।

तब कालू उस John को पुरी तरीके से मार देता है। जिसे देखकर सभी खुश हो जाते हैं। यही पर इस कहानी को समाप्त कर दिया जाता हैं।

Second story of Motu Patlu in hindi

Motu Patlu story in hindi : मोटू पतलू की कहानी हिंदी में

इस कहानी की शुरुआत एक रोबोट घोड़ा से होती है। जिसे बड़े भईया ने बनाए होते हैं। इस घोड़े की

खासियत मोटू पतलू और कुड़ी बाबा से बताते हैं। की यह घोड़ा टैक्सी से बहुत ही तेज दौड़ेगा। और इसकी

बनावट भी मजबूत हैं। और इसमें एक बड़ी खासियत है। जिसे जहां भी कहने पर वहां पर लेकर चला जाएगा।

ये तीनों बात बताने के बाद सभी आश्चर्य हो जातें हैं। और उसका तारिफ करने लगते हैं। इसको चलाने

के लिए सबसे ज्यादा अनुभव मोटू को थी। जब मोटू को चलाने के लिए भेजा जाता हैं। तो सबसे पहले

शुभ काम के लिए एक नारियल फोड़ा जाता हैं। ताकि दिन शुभ रहें। नारियल को पटकने के बाद नारियल उछलकर

चिंगम के सर पर लग जाता हैं। जिससे चिंगम वहीं पर गिर जाता हैं। और मोंटू start के बटन पर

क्लिक करके उस रोबोट घोड़ा को वहां से लेकर निकल जाता हैं। जब एक चौक पर जाकर चिल्लाते हैं, कि

आओ 10 रुपए में रोबोट टांगा का मजा उठाएं। तभी वहां पर मौजूद टैक्सी वाले उसे देखकर हंसने लगते हैं।

और बोलते हैं। ये तो चल भी नहीं सकता हैं। तो दौड़ेगा क्या। ये सभी बातें सुनने के बाद

बड़े भईया गुस्सा हो जातें हैं। और उस रोबोट को चालू करके बोलते हैं। मोटू पतलू इस सवारी रोबोट को

ले जाओ। पर एक भी सवारी न होने की वजह से चाय वाले भईया बोलते हैं। मैं तुम्हारे सवारी

बन जाता हूं। चलो ले चलो।

जब रोबोट टांगें पर चाय वाले बैठ जाता हैं। और उसे चलने को कहते हैं। जिससे रोबोट बहुत ही तेज स्पीड में चलने लगता है। जिसके वजह से चाय वाला कुछ देर के बाद उस सवारी रोबोट पर से नीचे गिर जाता है।
Motu Patlu story in hindi : मोटू पतलू की कहानी हिंदी में

जिसे देखकर सभी हैरान हो जातें हैं। और बोलते हैं। ऐसा नहीं हो सकता हैं। फिर कुछ देर के बाद

उस रोबोट टांगा पर चढ़ने के लिए बहुत ही संख्या में भीड़ होने लगी। की मुझे ले चलो। तो मुझे

ले चलो। जिससे लोग उस टांगें पर ज्यादा सफर करने लगे। और दुसरे टैक्सी वालों का धंधा पानी बंद हो

गया। जिसके कारण सभी टैक्सी वाले एकजुट होकर सलाह करते हैं, कि अगर इसी तरह चलता रहा तो हमलोग बर्बाद

हो जाएंगे। जाओ उस रोबोट टांगा को तोड़ डालो। जब टांगा को तोड़ने के लिए जाते हैं। तब मोंटू बोलता

है। अरे ऐसे कैसे तोड़ सकते हैं। हमने भी तो चूड़ियां नहीं पहन रखी है। जैसे ही टांगें को तोड़ने

का प्रयास करते हैं। तब motu patlu उस टैक्सी वालो को बहुत मारते हैं। जिसे देखकर दुसरे टैक्सी वाले वहां

से भाग जाते हैं। ये सब बातें और नजारें John वहां पर छुप कर देखता है। और अपने चमचे से

कहता है। क्यों ना इस रोबोट टांगें को चूरा लूं। तो उसके चमचे बोलते हैं। बहुत ही अच्छा रहेगा। जिससे

अगर हम कोई भी समान चोरी करके भागते हैं, तो हमें चिंगम नहीं पकड़ पाएगा। मोटू ने झगड़ा के बाद

रंगा के भाई को जेल भेजवा देता हैं। जैसे ही यह बात रंगा को पता चलता है। तो वह फोन

करके दुसरे टैक्सी वाले से पुछने लगता है। और कहता है। मैं अपने भाई का बदला जरूर लूंगा। और पुछता

हैं, यह मोंटू कौन है। तो वह बोलता है, मोंटू जागानगर का हैं। जैसे हम यहां के है। तब रंगा

कहता है, एक जंगल में दो शेर नहीं रह सकते। मैं उससे बदला लेकर रहूंगा। चाहे जो कुछ हो जाए।

मोटू को जगानगर में नहीं बल्कि यहां बूलाकर मारूंगा।

और अपने दोस्त से एक चिट्ठी लिखवाता है। जिससे मोंटू को वह बुला सकें। चिट्ठी लिखवाने के बाद मोंटू के पास भेजवा देता हैं। जिसमें लिखा रहता है।
Motu Patlu story in hindi : मोटू पतलू की कहानी हिंदी में

मै तुम्हारे चाचा हूं। जब तुम छोटे थे। तब उसी समय मैं तुमसे आखिरी बार मिला था। मैं विदेश जा

रहा हूं।‌‌ इसलिए मैं चाहता हूं, कि तुम मेरे करोड़ों की संपत्ति ले लो। और यहां रहकर लोगों की मदद

करो। मेरा पता चगमल चाचा पोस्ट आफिस के सामने है। जिसे सुनकर पतलू बोलता है। ये तो बात खुशी की

है। और मोंटू कहता है। चलो जल्दी चलने की तैयारी करो। जिसके बाद दोनों जाने के लिए तैयार होने लगते

हैं। और मोंटू पतलू के घर के पास John ये सब बातें सुन रहा था। जब जॉन ये सब बातें

सुनने के बाद प्लान बनाता हैं, कि क्यों ना मैं ही चला जाऊं और वहां जाकर बोलूंगा मैं ही मोंटू

हूं। तो सारी संपत्ति मेरा हो जाएगा। तब जाकर John उस रोबोट घोड़ा को चुराने के लिए जाता हैं। जब

रोबोट घोड़ा को चालू करता हैं, तो वह चालू नहीं होता हैं। तब मोंटू के पास जाकर पूछता है। तुम

रोबोट घोड़ा को कैसे चालू करते हो। तब मोंटू कहता है, पहले हरा बटन दबाते हैं और टांगा लगाते हैं।

और स्टार्ट बटन दबाकर जगह का नाम बताते हैं। जिससे वह चालने लगता है। ये सब बताने पर पतलू कहता

है, ये तुमने क्या किया। चोर को चोरी करना बता दिया। जिसके बाद motu patlu उसे पकड़ने के लिए निकलते

हैं। पर वहां से John उस टांगें को लेकर भाग निकलता है। और उस घोड़े को लेकर रंगा के पास

पहुंच जाता हैं। तब रंगा उससे कुछ सवाल पुछता हैं।

क्या तुम्हीं जगानगर के मोंटू हो। तो जॉन लालच में आकर हां बोल देता हैं। फिर एक सवाल पूछता है, क्या तुम्हें पसंद है। मुझे समौसे बहुत पसंद हैं।
Motu Patlu story in hindi : मोटू पतलू की कहानी हिंदी में

क्या तुम्हीं मेरे भाई को जेल भेजवाया था। तो John कहता है, हां मैं ही भेजवाया था। जब John खुशी से गले लगाने लगता है। तब रंगा कहता है मैं तुम्हारे चाचा नहीं हूं।

बल्कि मैं तुम्हें यहां पर बुलाने के लिए यह चिट्ठी लिखवाई थी। और रंगा अपने साथियों से कहता है। जाओ इसे करोड़ों की संपत्ति दे दो।

जिससे John को मारते लगते हैं। तब जॉन बोलता है। मैं मोटू नहीं हूं। मैं तो John हूं। पर उसकी बातों को न सुनते हुए उसे बहुत मारते हैं।

जिसे देखकर मोंटू पतलू हंसने लगते हैं। और बोलते हैं जाओ संपत्ति ले लो। Motu Patlu के पास जॉन भागकर आ जाता हैं। और कहता है मुझे बचा लो। अब कभी भी चोरी नहीं करूंगा।

जिससे उसके बातों को सुनकर मोंटू पतलू उस रंगा से बोलते हैं। अब रहने दो वरना ठीक नहीं होगा। पर उनकी बातों को न सुनते हुए फिर से मोंटू पतलू और जॉन को मारने की धमकी देता हैं।

पर मोंटू पतलू और John उस robot टांगा की मदद से वहां से भाग निकलते हैं। और उनका पिछा रंगा के सभी group वाले करने लगते हैं।

जिससे टांगा वाले और टैक्सी वाले में टक्कर हो जाती हैं। तब Motu Patlu उस टैक्सी वालों मार देते हैं। बाकी एक को छोड़कर रंगा को।

और रंगा से पुछते हैं। ये सब तुमने क्यों किया। तब रंगा कहता है। तुम मेरे भाई को जेल भेजवाया था इसलिए। ये सब बातें सुनने के बाद उसे भी जेल में डालवा देते हैं।

और मोंटू पतलू को देखकर सिंगम सर हंसने लगते हैं। उसके बाद इस कहानी को समाप्त कर दिया जाता है। इस कहानी से क्या सिख मिली कमेन्ट में जरूर बताएं।

ज्यादा जानें –

Leave a Comment